Article

Gemini – मिथुन राशि(2020)

राशिफल 2020

वार्षिक राशिफल 2020
मिथुन राशि वालों के लिए !

मिथुन राशि का स्वामी बुध होता है। राशि चक्र में इसका तीसरा स्थान माना जाता है। इस राशि के व्यक्ति शारीरिक रूप से फुर्तीले और हाजिर जवाबी होते हैं। लोग इनकी बौद्धिक क्षमता की प्रशंसा करते हैं। इस राशि वाले धार्मिक और दया भाव रखने वाले होते हैं। अपनी बहुमुखी प्रति के कारण आप भीड़ से अलग नजर आते हैं। आपके अंदर जितना क्रोध रहता है उतना ही संयम होता है। आप लक्ष्य बनाकर कार्य करना पसंद करते हैं। अपने जीवन में नए और अच्छे विचार बनाए रखते हैं। आपके अंदर कार्यों के प्रति उत्साह भी बना रहता है। अनुशासित व निमितता रखना पसंद करते हैं। खानपान का शौक रहता है। मेहनती ईमानदार तथा सहनशील होते हैं। इस राशि के जातक लोगों की भलाई के लिए सदैव आगे रहते हैं किंतु इसका परिणआम इन्हें कमजोर ही प्राप्त होता है।

आर्थिक जीवन

इस वर्ष आपका आर्थिक जीवन सामान्य रह सकता है। घर के सदस्यों की सेहत पर आपके खर्चों में वृद्धि होने की संभावना है। इस वर्ष आपको अपने अनावश्यक खर्चों पर लगाम लगाने की आवश्यकता है। साल के मध्य में आपको आर्थिक मदद की आवश्यकता होगी। इस दौरान आपको पिताजी की तरफ से आर्थिक सहायता प्राप्त हो सकती है। इस समय आमदनी के नए स्रोत किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति की मदद से प्राप्त हो सकते हैं। वाहन के रखरखाव में आपका धन खर्च हो सकता है। साल के अंत में आपके पास धन का प्रवाह बना रहेगा। आपकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी।

करियर-व्यापार

इस साल कार्यक्षेत्र में प्रतिस्पर्धा आपको और भी काबिल बनाएगी। विद्यार्थी वर्ग अपनी पढ़ाई में कामयाब होने में सफल होंगे। फरवरी माह में आप किसी के साथ पार्टनरशिप में व्यापार कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र में आपका मनोबल ऊंचा होगा। अपने ऊंचे मनोबल के कारण आप अपने प्रतिद्वंद्वियों को पछाड़ पाने में सफल होंगे। अगर कार्य-व्यापार में कोई परेशानी आती है तो आपका परिवार आपके सपोर्ट में खड़ा होगा। कार्य व व्यापार के सिलसिले से छोटी यात्राएं होंगी। अगस्त में आपके व्यापार की गति थोड़ी धीमी रहेगी। लेकिन अच्छी बात ये है कि उसमें सकारात्मकता बनी रहेगी। अक्टूबर में कारोबार में सुधार होगा। वहीं नवंबर में आपको अपने बॉस से डांट पड़ सकती है। इसलिए ऐसी कोई भी गलती न करें जिससे कोई आपके ऊपर सवाल उठाए।

पारिवारिक जीवन

साल के शुरुआती महीनों में परिजनों के बीच सामंजस्य की स्थिति देखने को मिलेगी। घरवालों का कार्यक्षेत्र में पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। इस वर्ष आप अपने घर पर कोई धार्मिक अनुष्ठान करा सकते हैं। घर पर बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद प्राप्त होगा। घर पर भाई-बहनों के बीच प्रेम का भाव बढ़ेगा। आपके सामाजिक जीवन में व्यवस्तता बढ़ सकती है। घर पर सीनियर सिटीजन की सेहत आपकी चिंता का कारण बन सकती है। इस वर्ष आपके ससुराल में किसी तरह का मांगलिक कार्य हो सकता है जिसमें आप हिस्सा लेंगे। आप समाज के कार्यों में बढ़चढ़कर हिस्सा लेंगे। आप घर के छोटे बच्चों का सही मार्गदर्शन कर सकते हैं।

प्रेम एवं विवाह

इस वर्ष आपका वैवाहिक जीवन अच्छा रहेगा। अगर आप नव दंपत्ति हैं तो संतान प्राप्ति को लेकर कोई ख़ुशखबरी मिल सकती है। यदि आप सिंगल हैं तो किसी की तरफ आपका आकर्षण बढ़ सकता है। इस वर्ष ऑफिस में कोई शख्स आपके दिल को छू सकता है। मार्च में दांपत्य जीवन में ऊर्जा का नया संचार प्रभावित होगा। जीवनसाथी के साथ आपका रिश्ता और बेहतर होगा। साल के मध्य में प्रेम संबंध को लेकर थोड़ा सजग रहें। क्योंकि इस दौरान प्यार के दुश्मन आपको बदनाम करने की पूरी साजिश रच सकते हैं। जुलाई में जीवनसाथी को समय दें और उन्हें शिकायतों का मौका न दें। यदि आप अविवाहित हैं सितंबर में आपको विवाह का प्रस्ताव मिल सकता है। प्रेम जीवन के लिए समय अच्छा होगा। दांपत्य जीवन में किसी तरह की परेशानी नहीं आएगी। साल का अंतिम भाव भी प्रेम और वैवाहिक जीवन के लिए अनुकूलता लिए हुए है।

स्वास्थ्य

सेहत के लिए साल 2020 सामान्य रहेगा। साल के शुरुआती माह में आपको अपने खानपान पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। गरिष्ठ भोजन से परहेज करें। क्योंकि आपको इस समय पेट से जुड़ी बीमारी परेशान कर सकती है। मानसिक स्थिति को स्थिर बनाए रखने के लिए योग व प्राणायाम पर ध्यान दें। शरीर में पानी की मात्रा में कमी न होने पाए इस बात का ध्यान रखें। साल के मध्य में आपकी सेहत दुरुस्त रहेगी। परंतु अक्टूबर में आपके ऊपर आलस्य हावी हो सकता है। इस बीच आप शारीरिक थकान का भी अनुभव करेंगे। नवंबर-दिसंबर में अपनी सेहत के प्रति लापरवाही न बरतें। खान-पान पर विशेष ध्यान दें।

उपाय

🍁 इस वर्ष आपको यह उपाय वर्ष पर्यन्त करना चाहिए जिसके फलस्वरूप आपको अनेकों समस्याओं से मुक्ति मिलेगी और आप उन्नति के मार्ग पर आगे कदम बढ़ाएंगे:

🍁 इस वर्ष आपको किसी धार्मिक स्थल की सीढ़ियां और वहां के रास्ते पर साफ सफाई का कार्य करना चाहिए तथा प्रत्येक बृहस्पतिवार तथा शनिवार को पीपल वृक्ष को जल चढ़ा कर उसकी पूजा करनी चाहिए।

🍁 संभव हो तो आप पीपल वृक्ष भी लगा सकते हैं।

🍁 इसके अतिरिक्त आप विधारा मूल की जड़ भी धारण कर सकते हैं जो बुध के दोषों को दूर करने, अल्सर, अपच एवं रक्त संबंधी विकारों से बचने के लिए बहुत लाभकारी है।

Leave a Reply

17 − 7 =

   Call Now    WhatsApp